Dil Meri Na Sune Lyrics – Atif Aslam

Dil Meri Na Sune Lyrics the singer of this song  Atif Aslam Dil Meri Na Sune Lyrics this very famous song the lyrics give by this song is Manoj Muntashir The music given by Himesh Reshammiya I hope you like this lyrics Dil Meri Na Sune Lyrics this video lyrics you can find from Tips official youtube channel thanks for coming now you can enjoy you Dil Meri Na Sune Lyrics.

SongDil Meri Na Sune
SingerAtif Aslam 
LyricsManoj Muntashir 
MusicHimesh Reshammiya
Music ProducedAditya Dev

Wo o, wo o… o o…

Maine chhaani ishq ki gali
Bas teri aahatein mili
Maine chaaha chaahun na tujhe
Par meri ek na chali

Ishq mein nigaahon ko milti hai baarishein
Phir bhi kyun kar raha dil teri khwahishein

Dil meri na sune
Dil ki main na sunun
Dil meri na sunne
Dil ka main kya karun (x2)

Wo o, wo o… o o…

Laaya kahaan mujhko ye moh tera
Raatein na ab meri, na mera savera
Jaan lega meri ye ishq mera
Ishq mein nigaahon ko milti hain baarishein
Phir bhi kyun kar raha dil teri khwahishein

Dil meri na sune
Dil ki main na sunun
Dil meri na sunne
Dil ka main kya karun (x2)

Dil toh hai dil ka kya
Gustakh hai ye
Darta nahi paagal
Bebaak hai ye
Hai raqeeb khud ka hi
Ittefaz hai ye

Ishq mein nigaahon ko milti hain baarishein
Phir bhi kyun kar raha dil teri khwahishein

Dil meri na sune
Dil ki main na sunun
Dil meri na sunne
Dil ka main kya karun (x2)

वो…
मैंने छानी इश्क़ की गली
बस तेरी आहटें मिली
मैंने चाहा चाहूँ ना तुझे
पर मेरी एक ना चली
इश्क़ में निगाहों को मिलती हैं बारिशें
फिर भी क्यूँ कर रहा दिल तेरी ख़्वाहिशें
दिल मेरी ना सुने
दिल की मैं ना सुनूँ
दिल मेरी ना सुने
दिल का मैं क्या करूँ
दिल मेरी ना सुने
दिल की मैं ना सुनूँ
दिल मेरी ना सुने
दिल का मैं क्या करूँ
वो…
लाया कहाँ मुझको ये मोह तेरा
रातें ना अब मेरी, ना मेरा सवेरा
जान लेगा मेरी, ये इश्क़ मेरा
इश्क़ में निगाहों को मिलती हैं बारिशें
फिर भी क्यूँ कर रहा दिल तेरी ख़्वाहिशें
दिल मेरी ना सुने
दिल की मैं ना सुनूँ
दिल मेरी ना सुने

दिल का मैं क्या करूँ
दिल मेरी ना सुने
दिल की मैं ना सुनूँ
दिल मेरी ना सुने
दिल का मैं क्या करूँ
दिल तो है दिल का क्या
ग़ुशताख है ये
डरता नहीं पागल
बेबाक़ है ये
है रक़ीब ख़ुद का ही
इत्तेफ़ाक है ये
इश्क़ में निगाहों को मिलती हैं बारिशें
फिर भी क्यूँ कर रहा दिल तेरी ख़्वाहिशें

दिल मेरी ना सुने
दिल की मैं ना सुनूँ
दिल मेरी ना सुने
दिल का मैं क्या करूँ

दिल मेरी ना सुने
दिल की मैं ना सुनूँ
दिल मेरी ना सुने
दिल का मैं क्या करूँ

I HOPE YOU ALSO LIKE

Posts created 224

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts

Begin typing your search term above and press enter to search. Press ESC to cancel.

Back To Top